Preveshika poorna gandharva mahavidhyala music syllabus

Preveshika poorna music syllabus of Gandharva Mahavidhyalaya in Hindi

Preveshika poorna 2nd Exam

प्रेवेशिका पूर्ण  वर्ष

गायन – वादन

 

 

 पूर्णांक  : 125  नियुनतम 44

क्रियात्मक : 75   शास्त्र (मौखिक ) : 50  नियुनतम 44

क्रियात्मक :

  • स्वरज्ञान : –
  • शुद्ध स्वरोंके साथ गाये / बजाये हुए कोमल तथा तीव्र स्वरों को पहचानने की क्षमता ।
  • पहले शिखे सभी अलंकारों का दृइट लय में अभ्यास ।
  • निम्नलिखित 6 नये अलंकारोन्न का विभिन्न रगों में तथा विभिन लय में लयकारी (एक मात्रा में एक / दो / तीन / चार / स्वर ) में हाथ से लय देकर प्रयोग करने का अभ्यास ।

  3.1) सा ग रे सा , रे म ग रे , ………..सां ध नि सां ।

 3.2) सा रे सा ग , रे ग रे म …………सां नि सां ध ।

3.3) सा रे ग रे ग सा रे , रे ग म ग म रे ग ……….(रूपक ताल में )

3.4) सा रे ग रे सा , रे ग म ग रे  …………………..(झप ताल में)

3.5) सा म ग रे , रे प म ग …….सां प ध नि ….

3.6) सा रे ग रे  ग – , रे ग म ग म –  …………………(एक ताल में )

आ) राग ज्ञान :-  

(1) पिछले वर्ष के सभी रागों की पुनराव्रत्ति के साथ इस वर्ष यमन (अथवा कल्याण ) और भूपली इन रगों के बड़े खयाल / मसीटखनी गत्ते (केवल बंदिश / गत ) गाना / बजाना अपेक्षित है । रागविस्तार अपेक्षित नहीं है ।

(2) अध्ययन के लिए राग – भेराव , अलहिया बिलावल ,केदार , बागेश्री , बिहाग , मल्कौंस , खमाज।

(3) इन रागों में आरोह – अवरोह , प्रारम्भिक आलाप और एक मध्यालय का खयाल / राजलहानी गत पाँच आलाप तथा पाँच तानो सहित (7 मीन तक ) गाने / बजने की तैयारी का अभ्यास ।

(5) गायन के लिए मण्डल की प्रथना “जय जगदीश हरे ” और एक भजन या लोकगीत शिखाया जाए । वादन के लिए लोकधुन और विशिस्त वादन क्क्रियाओं की तैयारी का अभ्यास ।

(6) गए / बजाए हुए आलापों द्वारा राग पहचानने की क्षमता अपेक्षित है ।

ताल ज्ञान :

  • झपताल ,रूपकताल ,धमार एन तालों की जानकारी ।
  • तबले एर बजते हुए तालों को (बोलोंसे ) पहचानने का अभ्यास – कहरवा, दादरा , तीन ताल , एकताल ,झपताल ,रूपक , चौताल ,धमार,।
  • तीनताल , एकताल , चौताल , धमार , रूपक और झपताल हाथ से ताल देकर (ताली – खाली दिखाकर ) दुगुन में बोल्न ।

शस्त्रा (मौखिक) : –

  • पिछले वर्ष के सभी पारिभाषिक शब्दों की जानकारी की पुनराव्रत्ति अनिवार्य ।
  • निम्नलिखित विषयों की वणनात्मक साधारण जानकारी । भारतिए संगीत की दो मुख्य प्ध्द्तियों के नाम – 1) उत्तर संगीत 2) दंक्षिण भारतीय ( करनाटक ) । नाद की व्याख्या और उसकी विशेषता के तीन नाम – 1) छोटा बड़ापन , 2) ऊँचान – नीचपन , 3) जाती अठुवा गुण । गांक्रिया / वण के नाम – 1) स्थायी , आरोही – अवरोही , 3) संचारी , 4) आभोग । गीत के प्रकार – द्रुपद , धमार , ख्याल , भजन , लक्षण गीत , सरगम गीत । वध्य के लिए – मशीतखनी तथा राजखनी गत तथा सरगमगीत । ध्वनि- नाद – श्रुति , स्वर की जानकारी ।
  • पं विष्णु डिगाम्म्बर पुलूसकर तथा पं विष्णु नारायण भातखण्डे स्वरलिपि के छिननोह की संक्षिप्त जानकारी – मंडरा / मध्य / टार स्वर ।सम / खाली / ताली / विभाग , आधी मात्रा(1/2)/ पाँव (1/4) मात्रा ।
  • प्रथम व द्वितीय वर्षों के रागों का पूर्ण विवरण – राग में लाग्ने वाले शुद्ध / कोमल / तीव्र स्वर , आरोह- आवरोह , वादी – संवादी , पकड़ , समय ) ।
  • अब तक शिखे हुए सभी तालों की मात्र , ठेका , सम , विभाग , ताली , खाली की मौखिक जानकारी और तालों को ठाह (बराबर ) तथा दुगुन लय में बोलने का अभ्यास ।
  • पं विष्णु दिगंबर प्लसकर की जीविनी ( 10 वाक्यों में ) ….
  • वध्य के अंगों की जानकारी – गायन के परीक्षार्थी तानपूरा की तथा वादन के परीक्षार्थी वध्य की जानकारी देंगे ।

All  Gandharva mahavidyalaya syllabus

Preveshika poorna music syllabus of Gandharva Mahavidhyalaya in Hindi are described  in this post  .. Saraswati sangeet sadhana provides complete Indian classical music theory in easy method . 

 Click here For english information of this post ..   

Some posts you may like this…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Open chat