u.p-board-class-10-music-syllabus

Music syllabus of class 10th U.p board madhyamic shiksha parishad

Instrumental music syllabus of U.p board class 10th music syllabus in Hindi  is described in this post of Saraswati sangeet sadhana .

Learn indian classical music in simle steps..

उ० प्र० माध्यमिक शिक्षा परिषद का पाठ्यक्रम

       संगीत (गायन ) कक्षा 10

 

इस विषय में १०० अंको का केवल एक  प्रश्न पत्र तीन घंटे का होगा।

भाग (क) शास्त्रीय शब्दावली की परिभाषा एवं व्याख्या (५० अंक)

नाद, नादोत्पति, नाद-अभ्यास, शब्द और वर्णो का गायन के लक्ष्य से स्पष्ट उच्चारण, तीनों सप्तकों का अध्ययन ( मन्द्र,मध्य एवं तार) आवाज के गुणों का उत्कर्ष और उसकी सुरक्षा के लिए स्वास्थ्य और भोजन सम्बन्धी नियम,भातखंडे एवं विष्णु दिगम्बर स्वर एवं लिपि पद्धति का सन्तुलनात्मक अध्ययन, थाटो का वर्गीकरण एवं थाट से रागों की उत्पति,मुर्की ,कण, वर्ण, वर्जित,वक्र,मींड,गत,सम, खाली एवं भरी।

भाग-(ख) संगीत का इतिहास एवं रागों का अध्ययन (५० अंक)

 

 ध्रुपद, टप्पा, ठुमरी, तराना तथा बडे व छोटे ख्याल की परिभाषा,पाठ्यक्रम के रागों की विशेषता एवं स्वर विस्तार एवं अलंकारो के माध्यम से रागों की बढ़त एवं उनमे भेद, पाठ्यक्रम के तालों के बोलों एवं दुगुन का गायन एवं एवं तालो को लिपिबद्ध करने की योग्यता  स्वर-समूहों छोटे छोटे टुकड़ो के आधार पर राग को पहचाने एवं उनकी बढ़त की योग्यता, संगीत सम्बन्धी सामान्य विषयों पर छोटा निबन्ध लिखना, तानसेन एवं विष्णु दिगम्बर की जीवनी।

बिहाग एवं भैरवी रागों का विस्तृत अध्ययन, प्रत्येक मे एक – एक गीत छात्रों को तैयार करना है। उपर्युक्त रागों मे एक ध्रुपद  और ख्याल होना चाहिये। उनमें आलाप- तान लिखने की क्षमता होनी चाहिए।

राग बागे श्री एवं काफी रागों की साधारण जानकारी होनी चाहिए।

प्रत्येक राग में एक गीत (सरगम या लक्षणगीत) होना आवश्यक है।

प्रत्येक राग का आरोह,अवरोह एवं पकड़ गाना विद्यार्थी को अवश्य आना चाहिए। तथा उसको लिखने की क्षमता होनी चाहिये।

उपर्युक्त गीतों के साथ दादरा,तीनताल, झपताल, एकताल एवं चारताल नामक ताले प्रयुक्त होनी चाहिये।

  • नोटउपर्युक्त निर्धारित रागों एवं तालों का आन्तरिक प्रयोगात्मक मूल्यांकन किया जायेगा तथा उनमें ग्रेड दिया जायेगा।

 

 कक्षा १०के विद्यार्थियों हेतु सूची

  • परिभाषा एवं व्याख्या

नाद-११०, सप्तक-११३,सप्तक के प्रकार-११४, स्वर साधना करते समय सावधानियां-१४३, भातखंडे एवं विष्णु दिगम्बर स्वरलिपि पद्धति का संतुलनात्मक अध्ययन-१३,थाट की परिभाषा और लक्षण -११५, थाट का वर्गीकरण( संख्या)-११६, एक थाट से ४८४ रागों की उत्पत्ति-१३८, कण, खटका और मुर्की – १२९,  वर्ण -१२०, वर्जित (वर्ज्य)-१२३,  वक्र स्वर -१२८,मींड-१२९, गत- १६१, सम, ताली (भरी) एवं खाली-१३२

संगीत का इतिहास एवं रागों का अध्ययन

        ध्रुपद-८८,   विलम्बित(बडा) ख्याल-९०,द्रुत (छोटा) ख्याल-९०, ठुमरी-९१,टप्पा-९१,तराना-९२.

 

रागों का परिचय एवं विशेषता

  राग बिहाग-२२, राग भैरवी-२७ 

  राग बागेश्वरी-४०, राग काफी-४४

जीवनी एवं योगदान

   तानसेन-१०२ विष्णु दिगम्बर पलुस्कर-९५

  सामान्य विषयों पर निबंध

  शास्त्रीय संगीत और चित्रपट संगीत-१६९, जीवन और संगीत-१७१, संगीत सम्मेलन-और उसकी उपयोगिता-१७२, संगीत में ताल का महत्व-१७४, एक संगीत समारोह का वर्णन-१७५, शास्त्रीय संगीत में हारमोनियम का प्रयोग-१७७

 

  तालों का परिचय

  दादरा-७६,  झपताल, एकताल एवं चारताल-७७, तीनताल -७८

All Cbse music syllabus

 Instrumental music syllabus of Music syllabus of class 10th U.p board in Hindi is described in this post of Saraswati Sangeet Sadhana..

Click here For english information of this post ..   

Some more post you may like this..

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Open chat