Kathak Nratak ke Gun Avgun in Hindi

Kathak Nratak ke Gun Avgun in Hindi Kathak Theory Shastra

Kathak Nratak ke Gun Avgun in Hindi is described in this post . Kathak shastra notes available on saraswati sangeet sadhana

Kathak Nratak ke Gun Avgun in Hindi

Kathak Nratak ke Gun Avgun in Hindi

नर्तक के गुण – अवगुण-

नृत्य के प्राचीन आचार्यो ने पात्र लक्षण के अंतर्गत नृतक के गुण दोष बताये हैं । आचार्य नन्दिकेश्वर ने अभिनय दर्पण में नर्तकी के मुख्य 10 गुण नृत्य के प्राचीन आचार्यों ने पात्र लक्षण के अंतर्गत नर्तक के गुण – दोष बताये हैं जैसे- चपलता , स्थिरता , भ्रमरी में प्रवीणता , तीक्ष्ण स्मरण शक्ति वाली , कला में श्रद्धा , गायन में कुशलता आदि । नीचे नर्तक के वर्तमान गुणों पर प्रकाश डाला जा रहा है।

( 1 ) शारीरिक सौन्दर्य – नर्तक अथवा नर्तकी की प्रथम गुण सुन्दरता है । यहाँ सुन्दरता का अर्थ प्राकृतिक सौंदर्य से है । मेकअप ( रूप सौन्दर्य ) और अच्छे वस्त्रों से सुन्दरता में वृद्धि होती है , पैदा नहीं होती । प्राकृतिक सौन्दर्य एक ऐसी आधार – भूमि है जिस पर नर्तक की सफलता बहुत कुछ आधारित है । सुन्दरता से मतलब केवल शरीर का गोरा होना मात्र नहीं , बल्कि सुडौल और आकर्षक शरीर है । नाक , ओंठ , नेत्र , मुखाकृत , लम्बाई , दांत , अँगुलियाँ आदि अंग शरीर की सुन्दरता में सहायक होते हैं । साधारण कद , बड़े नेत्र , पतले होंठ , लम्बी और पतली अँगुलियाँ आदि शारीरिक सौन्दर्य की वृद्धि करते हैं । कुरूप व्यक्ति अच्छा शिक्षक बन सकता है , सफल नर्तक नहीं ।

 ( 2 ) स्वस्थ शरीर केवल सुन्दर शरीर से काम पूरा नहीं होता , उसे निरोगी और स्वस्थ होना चाहिये । नृत्य में नर्तक की अच्छी कसरत हो जाती है । बिना स्वस्थ शरीर के वह ठीक प्रकार से अभ्यास नहीं कर सकता । अतः स्वस्थ शरीर नर्तक का दूसरा मुख्य गुण है ।

 ( 3 ) अच्छी शिक्षा सुन्दर और स्वस्थ शरीर के बाद उसे किसी अच्छे नृत्यकार से नृत्य की शिक्षा मिलनी चाहिये । एक ओर गुरू अच्छा नृत्यकार हो और दूसरी ओर वह उसे सिखाने में रूचि ले । प्रायः ऐसा देखने में आया है कि अच्छे कलाकार सिखाने में बहुत कम रूचि लेते हैं । अच्छे गुरू से सीखा हुआ व्यक्ति सफल नर्तक हो सकता है ।

( 4 ) उचित अभ्यास प्राकृतिक सौन्दर्य और अच्छे गुरू मात्र से काम पूरा नहीं होता । नर्तक को सीखी हुई चीजों का खूब अच्छा अभ्यास होना चाहिये जिससे एक ओर उसे नृत्य के अवयवों पर और दूसरी ओर अपने अंगों पर पूर्ण नियंत्रण हो सके ।

( 5 ) लयकार- नृत्य में लय का बड़ा महत्व है । अतः सफल नर्तक को लय और ताल पर अच्छा अधिकार होना चाहिये । उसके तोड़े आदि ठीक स्थान से उठें और ठीक स्थान पर खतम हों ।

( 6 ) मादक वस्तु निषेध – बहुत नर्तक आनन्द के लिये किसी मादक वस्तु जैसे शराब आदि का प्रयोग कर लेते हैं । धीरे – धीरे उनकी आदत पड़ जाती है । फलस्वरूप उनका नृत्य का अभ्यास प्रतिदिन कम होने लगता है और समाज में बदनाम हो जाते हैं , अतः सफल नर्तक को किसी मादक वस्तु का प्रयोग नहीं करना चाहिये ।

– ( 7 ) आत्म – विश्वास उपर्युक्त बातों के साथ – साथ नर्तक में अपनी शिक्षा और अभ्यास के प्रति आत्मविश्वास होना चाहिये । रंगमंच पर आत्म – विश्वास खो देने से उसे जो कुछ भी याद रहता है , भूल जाता है ।

 (8 ) वाणी की स्पष्टता- रंगमंच पर बोल पढ़ने की परम्परा प्राचीन हैं । इस क्रिया से श्रोता उस बोल की सूक्ष्मता को समझ लेते हैं , अत : बोल – पढ़ंत में उसकी वाणी स्पष्ट और आकर्षक होनी चाहिये । इन गुणों की उल्टी बातें अवगुण हैं , जैसे- कुरूप , कुबड़ी , ठिगनी या बहुत लम्बी , बहुत मोटी या बहुत दुबली आदि और अस्वस्थ शरीर , उचित शिक्षा और अभ्यास की कमी , लय – ताल में न होना , मादक वस्तु का प्रयोग करना , आत्म विश्वास की कमी , अस्पष्ट वाणी आदि नर्तक के अवगुण हैं । सफल नर्तक बनने के लिये इनसे दूर रहना चाहिये । प्रश्न 1. नर्तक के गुण – अवगुणों को समझाइये ।

Kathak Nratak ke Gun Avgun in Hindi is described in this post

Click here for Kathak Nratak ke Gun Avgun in english

For More Information Purchase this Book….

Purchase Kathak Book Online …

Kathak Nratya Parichay – Rs 80

4.5/5 - (4 votes)
error: Content is protected !!
Scroll to Top