vadyon ke prakar

Vadyon ke prakar / Types of Instruments in Indian classical music

Vadyon ke prakar / Types of musical instruments in hindi  is described in this post . 

Vadyon ke prakar / वाद्यों  के प्रकार

आदि काल से भारत में विभिन्न प्रकार के वाद्यों का प्रयोग होता रहा है । रामायण ,उपनिषद आदि प्राचीन ग्रन्थों में विभिन्न प्रकार के वाद्यों के प्रयोग का समर्थन मिलता है । शारंगदेव लिखित संगीत रत्नाकर में वाद्यों को मुख्य 4 वर्गो में विभाजित किया गया है –

  • तत वाद्य
  • सुषिर वाद्य
  • अवनद्ध वाद्य
  • घन वाद्य

Tat Vadya Yantra / तत वाद्य –  

पहला प्रकार तत वाद्यों का है । जिन वाद्यों में तार अथवा तांत द्वारा स्वर उत्पन्न होते हैं ,वे तत वाद्य कहलाते हैं जैसे – तानपुरा ,सारंगी ,बेला ,सितार ,सरोद आदि । ये सभी वाद्य वीणा से उत्पन्न माने गए ,अत: वीणा को तत वाद्यों की जननी कहा गया है । इनमें से तानपुरा को अंगुलियों  से ,सितार को मिज़राब से और सरोद को  (धातु की एक छोटी पत्ती ) से बजाते हैं । 

Sushir vadya / सुषिर  वाद्य –

वाद्यों के दूसरे प्रकार को सुषिर वाद्य कहते हैं , जैसे –हारमोनियम ,शहनाई ,बांसुरी ,शंख ,बिगुल आदि । जिन वाद्यों में हवा से स्वर उत्पन्न होते हैं ,वे सुषिर वाद्य कहलाते हैं । हारमोनियम में रीड के द्वारा और शहनाई में पत्ती के द्वारा स्वरोत्पत्ति होती है । बांसुरी ,बिगुल और शंख में छिद्रो से स्वर उत्पन्न होते हैं ।    

 Avnadh vadya / अवनद्ध वाद्य –

वाद्यों का तीसरा प्रकार जिसे अवनद्ध वाद्य कहते हैं ,मुख्यत: ताल देने के काम में आता है । जिन वाद्यों में चमड़े पर आघात करने से स्वर उत्पन्न होते हैं ,अवनद्ध वाद्य कहलाते हैं ,जैसे – तबला ,पखावज ,ढोलक ,डमरू ,नगाड़ा ,मेरी आदि । इन वाद्यों में  अन्य वाद्यों के समान विभिन्न स्वर नहीं होते बल्कि एक स्वर उत्पन्न हुया करता है । उदाहरण के लिए तबला को जिस स्वर से मिला दिया जाए ,उससे वही स्वर उत्पन्न होगा दूसरा नहीं ।  

Ghan vadya / घन वाद्य –

वाद्यों का अंतिम प्रकार घन वाद्य कहलाता है । इनमे किसी धातु अथवा लकड़ी द्वारा स्वर उत्पन्न होते हैं ,जैसे – मजीरा ,झांझ ,नलतरंग इत्यादि । इन वाद्यों में स्वरों की स्थिरता  काफी समय तक  नहीं रहती । फलस्वरूप इनमें स्वर का काम अच्छा नहीं होता । मींड तो इनमें से किसी भी वाद्य में संभव नहीं है । मजीरा लय दिखाने के लिये  प्रयोग किया जाता है ।

Click here for Defination of all terms in Indian classical music..

Vadyon ke prakar  , types of musical instruments in hindi   are described  in this post  .. Saraswati sangeet sadhana provides complete Indian classical music theory in easy method ..

 Click here For english information of this post ..   

Some posts you may like this…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Open chat