keyboard description

Music Instrument Keyboard / कीबोर्ड वाद्य यंत्र

 Introduction to Music instrument keyboard and parts of keyboard , description of Music instrument keyboard & parts of keyboard in hindi is described in this post of saraswati sangeet sadhana.

Introduction to Music instrument Keyboard / कीबोर्ड वाद्य यंत्र 

कीबोर्ड एक वाद्य यंत्र है जिसमे बटन की कतार होती है और उसे उँगलियों द्वारा बजाया जाता है । ये संगीत उपयोगी ध्वनि उत्पन्न करता है । यह हारमोनियम के जैसे ही है बस ये बिजली से चलता है । इसे  इलैक्ट्रिक पियानो और इलैक्ट्रिक कीबोर्ड भी कहते हैं ।

जिस प्रकार हारमोनियम में सप्तक होते हैं वैसे ही कीबोर्ड में औक्टटेव (octave) होते हैं । एक औक्टटेव  (octave) में 12 स्वर होते हैं जिसमे 7 मुख्य स्वर और 5 विकृत स्वर होते हैं ।

कीबोर्ड में विभिन प्रकार की ताल व ट्यून भी होतीं हैं इसके द्वारा हम किसी भी गाने की ताल के साथ – साथ हम बाजा भी सकते हैं ।

Parts of Keyboard / कीबोर्ड के पार्ट्स –

  • स्वर बटन (keys )
  • पिच मोदुलार बटन (Pitch modular)
  • वॉल्यूम बटन (Volume knob)
  • इलैक्ट्रिक स्क्रीन (Electric screen )
  • ताल बटन (Rhythm button )
  • ट्यून बटन (Tone button )
  • स्पीकर (Speakers)

कीबोर्ड की विशेषता –

  • आवाज़ कम ज्यादा करने के लिए बटन ।
  • ताल व ट्यून चुनने के लिए बटन ।
  • सितार जैसे बजने के लिए पिच मोडुलर (pitch modular ) ।
  • लय को कम ज्यादा करने के लिए टेम्पो (tempo) बटन ।
  • अच्छे से संचालित करने के लिए एक इलैक्ट्रिक एलईडी स्क्रीन ।
  • इसमे विभिन्न प्रकार के वाद्य यंत्रों की आवाज़ भी होती हैं । हम इन ट्यून द्वारा जैसे गाने में बजता है हूबहू वैसे ही बाजा सकते हैं ।
  • जिस प्रकार हारमोनियम में 3 या 3.5 सप्तक होते हैं इसमे भी 3 ,5 , या 5 औक्टटेव (octave) होते हैं ।
  • यह छोटा व बड़ा सभी प्रकार का होता है ।

History of Keyboard Instrument in Hindi

कीबोर्ड उपकरण एक ऐसा संगीत उपकरण है जिसे संगीतमय कीबोर्ड के प्रयोग से बजाया जाता है। इनमें से सबसे सामान्य पियानो है। व्यापक रूप से इस्तेमाल किए जाने वाले अन्य कीबोर्ड उपकरणों में विभिन्न प्रकार के यंत्रों के साथ-साथ अन्य यांत्रिक, विद्युत यांत्रिक और इलेक्ट्रॉनिक उपकरण शामिल हैं। प्रचलित भाषा में, ज्यादातर इसे कीबोर्ड-शैली सिंथेसाइज़र के रूप में संदर्भित किया जाता है।

पाइप यंत्र, हर्डी गर्डी, क्लेवीकोर्ड और हार्पसीकोर्ड आरम्भिक कीबोर्ड उपकरण हैं। ऑर्गन निस्संदेह इनमें से सबसे पुराना है, जो ई.पू. तीसरी शताब्दी में देखा गया था, हालांकि इस प्रारम्भिक उपकरण को-हाईड्रोलिस-कहा जाता था और आधुनिक अर्थ में एक कीबोर्ड के रूप में इसका इस्तेमाल नहीं किया गया था। अपने आविष्कार से 14वीं शताब्दी तक, ऑर्गन एकमात्र कीबोर्ड उपकरण बना रहा। इस ऑर्गन में अक्सर कीबोर्ड नहीं होता था, बल्कि बड़े बटन और लीवर होते थे जिन्हें अक्सर पूरे हाथ के द्वारा संचालित किया जाता था। 15वीं सदी तक लगभग सभी कीबोर्ड में स्वाभाविक से लेकर प्रत्येक सप्तक था।

क्लाविकोर्ड और हार्पसीकोर्ड 14वीं सदी के दौरान अस्तित्व में आया, जिनमें से शायद क्लाविकोर्ड पहले आया। 18वीं सदी में व्यापक रूप से पियानो के अधिग्रहण करने तक हार्पसीकोर्ड और क्लावीकोर्ड दोनों काफी सार्वजनिक और लोकप्रिय थे, लेकिन इसके आने के बाद धीरे-धीरे इनकी लोकप्रियता कम हो गई। पियानो एक क्रांतिकारी रूप में उभरा क्योंकि एक पियानोवादक प्रत्येक कुंजी में लगने वाली उर्जा के परिवर्तन के द्वारा ध्वनि केबदल सकता है। पियानो का पूरा नाम “gravicèmbalo con piano e forte” है जिसका अर्थ “मधुर एवं तीव्र के साथ हार्पसीकोर्ड” लेकिन “piano-forte” के रूप में इसे लघु किया जा सकता है, जिसका इतालवी में अर्थ “मधुर-तीव्र” है।

कीबोर्ड उपकरणों को 20वीं सदी में अतिरिक्त रूप से विकसित किया गया। ओनडेस मार्टेनोट जैसे प्रारम्भिक विद्युत यांत्रिक उपकरण को शताब्दी के आरम्भ में देखा गया।

पियानो की कुंजियां प्राकृतिक सामग्री से बनी होती थीं। सफेद और काली स्पर्श-रेखा क्रमशः हाथी-दांत और आबनूस से बनी होती थीं, लेकिन वर्तमान में लकड़ी की कुंजियों को ढकने के लिए प्लास्टिक जैसे कृत्रिम सामग्री का इस्तेमाल किया जाता है। ओक, अखरोट और नरम लकड़ी जैसे सस्ती सामग्रियों का अब प्रयोग किया जाता है।

पियानो की तरह ध्वनि करने वाले उपकरण की खोज के काफी प्रयास किए गए लेकिन इसके आकार और वजन का अभाव था। विद्युत पियानो और इलेक्ट्रॉनिक पियानो आरम्भिक प्रयास थे, जो अपने आप में एक उपयोगी उपकरण होने के बावजूद, पियानो वाली लय को आसानी से पुनः उत्पादित करने में सफल नहीं थे। विद्युत और इलेक्ट्रॉनिक यंत्रों को इसी अवधि के दौरान विकसित किया गया।

सिंथेसाइज़र का महत्वपूर्ण विकास 1960 के दशक में हुआ और तब से यह जारी है। सबसे उल्लेखनीय प्रारम्भिक सिंथेसाइज़र मूग सिंथेसाइज़र है, जिसमें अनालॉग सर्किटरी का प्रयोग किया जाता है। उस समय, वास्तविक पियानो नमूने का उपयोग करने वाले डिजिटल संश्लेषण, वर्तमान में सामान्य बन गए।

Click here for Defination of all terms in Indian classical music..

Introduction / Description of Keyboard music instrument  in hindi  is  described  in this post  .. Saraswati sangeet sadhana provides complete Indian classical music theory in easy method ..

Click here For english information of this post ..   

Some posts you may like this…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Open chat