Odissi Nritya Bhaskar Part 1 Syllabus In Hindi Pracheen Kala Kendra

5/5 - (1 vote)

Odissi Nritya Bhaskar Part 1 Syllabus

उड़ीसी नृत्य

परीक्षा के अंक

पूर्णक: ४००

शास्त्र – २००

प्रथम प्रश्न पत्र:१००

द्वितीय प्रश्न पत्र:१००

क्रियात्मक-१२५

मंच प्रदर्शन :२५ 

शास्त्र

प्रथम प्रश्न पत्र
  • उड़ीसी नृत्य से सम्बन्धित सभी पारिभाषिक शब्दों का विस्तृत अध्ययन
  • भारतीय तथा पश्चिमी नृत्यों का तुलनात्मक अध्ययन तथा भारतीय नृत्यों पर पश्चिमी नृत्यों का प्रभाव।
  • प्राचीन मध्यकालीन तथा आधुनिक युग में विद्यमान उड़ीसी नृत्यों का आलोचनात्मक अध्ययन।
  • प्राचीन तथा आधुनिक नृत्य की रचनाओं के सिंद्धात तथा विशेषताएं।
  • रसों का विकास-स्थाई भाव, संचारी भाव, अनुभाव, विभाव आदि का उड़ीसी नृत्य में विशेष तथा अन्य नृत्यों में आमतौर पर प्रदर्शन
  • उड़ीसी नृत्य के विशेष प्रसंग में भारतीय शास्त्रीय नृत्यों से सम्बन्धित प्राचीन ग्रन्थों का आलोचनात्मक अध्ययन।
  • भारतीय शास्त्रीय तथा लोक नृत्यों से सम्बन्धित निबन्ध लिखने की योग्यता ।
  • उड़ीसी नृत्य का उद्गम, विकास तथा विशेषताएं।
  • पूर्वी भारत के लोक नृत्यों का ज्ञान।
  • समस्त संयुक्त हस्त मुद्राओं का विस्तृत ज्ञान तथा उनका उड़ीसी नृत्य में प्रयोग।
  • भारतीय नृत्य विशेष रूप से उड़ीसी नृत्य के सम्बन्ध में शरीर के विभिन्न भागो के संचालन का विस्तृत अध्ययन
  • उड़ीसी नृत्य मंच का विशेष रूप में तथा प्राचीन, मध्यकालीन तथा आधुनिक युग में भारतीय मंच के इतिहास का विस्तृत अध्ययन
द्वितीय प्रश्न पत्र
  • अभिनय का इसके चार अंगो के साथ विस्तृत अध्ययन तथा इसका नृत्य में विशेष रूप से उड़ीसी नृत्य में महत्व।
  • लास्य तथा ताण्डव की विभिन्न विशेषताओं का विस्तृत अध्ययन।
  • भारतीय तथा पश्चिमी स्वर लिपि पद्धति का ज्ञान।
  • ताल का उद्गम, नृत्य से ताल तथा लय का सम्बन्ध।
  • सोलो नृत्य, युगल नृत्य तथा समूह नृत्य के सिद्धान्त तथा प्रतिक्रिया।
  • विभिन्न लयकारियों में उड़ीसी नृत्य में प्रयुक्त सभी तालें लिखने का ज्ञान।
  • विभिन्न शास्त्रीय नृत्यों के उद्गम का विस्तृत अध्ययन, उनकी तुलना तथा विशेषताएं ।
  • दक्षिण भारतीय तथा उत्तर भारतीय ताल पद्धति का तुलनात्मक अध्ययन।
  • उड़ीसी, दक्षिणी तथा उत्तरी ताल पद्धति का तुलनात्मक अध्ययन।
  • भारत तथा विदेश में लय के स्वरूप तथा उनका नृत्यों में प्रयोग ।
  • मुगल काल से आधुनिक काल तक भारत में नृत्य विकास का तुलनात्मक अध्ययन।
  • भारतीय शास्त्रीय नृत्यों से सम्बन्धित विभिन्न पहलुओं पर निबन्ध लिखनें का अभ्यास ।

क्रियात्मक

  • हाथ पर ताली द्वारा विभिन्न लयकारियों के प्रदर्शन का अभ्यास
  • मध्य तथा उत्तर भारत के कुछ लोक नृत्यों को प्रस्तुत करने की योग्यता।
  • निम्नलिखित नृत्य शैलियों में से किसी एक का क्रियात्मक ज्ञान:- भरत नाट्यम तथा मणिपुरी ।
  • उड़ीसी नृत्य में प्रयुक्त होने वाली विभिन्न तालों का सही तथा कुशल प्रदर्शन करने की योग्यता।
  • उड़ीसी नृत्य की प्राचीन तथा आधुनिक तालों में क्रियात्मक अन्तर प्रदर्शन करने की योग्यता।
  • कोणार्क, भुवनेश्वर तथा जगन्नाथ मन्दिरों में प्राप्त नृत्य मुद्राओं को प्रदर्शन करने की योग्यता।
  • प्राचीन तथा आधुनिक विषयों पर आधारित नृत्य नाटिका रचना करने की योग्यता।
  • उड़ीसी राग तथा रागनियों का क्रियात्मक प्रदर्शन।
  • उड़ीसी नृत्य के सभी अंग संचालनों का अभ्यास ।
  • मण्डल के विभिन्न पहलुओं का क़ियात्मक प्रदर्शन।
  • चारी के विभिन्न पहलुओं का क्रियात्मक प्रदर्शन।
  • पढ़न्त का अभ्यास।

मंच प्रदर्शन –

  • परीक्षार्थी को ४५ मिनट तक उड़ीसी नृत्य के विभिन्न पहलुओं का मंच पर उत्तम प्रदर्शन करना होगा।
  • टिप्पणी- पूर्व वर्षो का पाठ्यक्रम संयुक्त रहेगा।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Scroll to Top